काव्य किसे कहते हैं। परिभाषा, भेद और गुण

काव्य – Kavya in Hindi Grammar   काव्य का अर्थ : – ‘तददोषौ शब्दार्थौ सगुणवणलंकृति पुनः क्वापी।’   संस्कृत आचार्य मम्मट ने यह काव्य लक्षण दिया। आचार्य ने शब्द और अर्थ की को काव्य माना। ये शब्द और अर्थ दोनों अदोषौ अर्थात दोष रहित हों, सगुण अर्थात ओज, माधुर्य और प्रसाद …

आगे पढ़ें काव्य किसे कहते हैं। परिभाषा, भेद और गुण

पद परिचय किसे कहते हैं : परिभाषा, प्रकार और उदाहरण

पद परिचय – Pad Parichay in Hindi Grammar   परिभाषा – वाक्य में प्रयुक्त प्रत्येक सार्थक शब्द पद कहलाता हैं तथा उन शब्दों के व्याकरणीय परिचय को पद परिचय कहते हैं।   पद परिचय में उस शब्द के उपभेद, भेद, वचन, लिंग, कारक आदि के परिचय के साथ, वाक्य में …

आगे पढ़ें पद परिचय किसे कहते हैं : परिभाषा, प्रकार और उदाहरण

पदबंध : परिभाषा, भेद और उदाहरण – Padbandh in Hindi

पदबंध किसे कहते हैं। – Padbandh in Hindi Grammar   परिभाषा – वाक्य में जब एक से अधिक पद मिलकर एक व्याकरणिक इकाई का काम करते हैं तब उस बंधी हुई इकाई को पदबंध कहते हैं।   दूसरे शब्दों में कहा जा सकता है कि वाक्य का वह सार्थक अंश, …

आगे पढ़ें पदबंध : परिभाषा, भेद और उदाहरण – Padbandh in Hindi

वाच्य : परिभाषा, भेद और उदाहरण – Vachya in Hindi

वाच्य किसे कहते हैं। – Vachya in Hindi Grammar   वाच्य की परिभाषा – क्रिया के जिस रुप से यह जाना जाए की वाक्य में क्रिया द्वारा कही गई बात का विषय कर्त्ता है, अथवा कर्म है, या भाव है, उसे वाच्य कहते हैं।   वाच्य के भेद या प्रकार …

आगे पढ़ें वाच्य : परिभाषा, भेद और उदाहरण – Vachya in Hindi

रस : परिभाषा, भेद और उदाहरण – Ras in Hindi

रस – Ras in Hindi Grammar   विभावानुभावव्यभिचारिसंयोगादृसनिष्पत्ति:।   भरतमुनि ने अपने नाट्यशास्त्र में उक्त सूत्र को उल्लेखित किया है। सूत्र से स्पस्ट है की विभाव, अनुभाव और व्यभिचारी भावों के संयोग से रस की निष्पत्ति होती है।   रस किसे कहते हैं। – Ras Kise Kahate Hain   रस …

आगे पढ़ें रस : परिभाषा, भेद और उदाहरण – Ras in Hindi